कुलभूषण केस:: पाकिस्तानी अधिकारी ने बढ़ाए हाथ भारतीय अफसर ने दिया करारा जवाब।

     NEWS DESK (COBRA TELEVISION) कुलभूषण जाधव केस की सुनवाई में भारत की तरफ से वरिष्ठ वकील हरीश साल्वे ने कहा कि जाधव को बिना काउंसलर( वकील )की सुविधा के लगातार कस्टडी में रखा गया है ।इसको गैरकानूनी करार दिया जाना चाहिए। इंटरनेशनल कोर्ट आफ जस्टिस में कुलभूषण जाधव केस की सुनवाई से पहले भारत और पाकिस्तान के अधिकारियों का आमना-सामना हुआ। इस दौरान एक बड़ा ही रोचक वाक्या घटा। दरअसल कुलभूषण जाधव केस की सुनवाई से पहले भारत की तरफ से वरिष्ठ वकील हरीश साल्वे और विदेश मंत्रालय के ज्वाइंट सेक्रेट्री दीपक मित्तल बैठे हुए थे, इसी बीच उनकी टेबल पर पाकिस्तान के अटार्नी जनरल मंजूर खान पहुंच गए मंजूर खान ने जॉइंट सेक्रेटरी दीपक मितल  से हाथ मिलाने को आगे बढ़ाया लेकिन दीपक मित्तल ने अपनी तरह से करारा जवाब देते हुए केवल हाथ जोड़कर अभिवादन किया।

किसी भी अधिकारी ने नहीं मिलाया मंजूर खान से हाथ :: पाकिस्तान के अटार्नी जनरल जनरल मंजूर खान ने जैसे ही ज्वाइंट सेक्रेट्री दीपक मित्तल की ओर हाथ मिलाने के लिए बढ़ाया तो मित्तल ने इनकार करते हुए हाथ जोड़कर अभिवादन किया ।इसके साथ ही मितल के साथ मौजूद अधिकारियों ने भी मंजूर खान से हाथ नहीं मिलाया। केवल वरिष्ठ वकील हरीश साल्वे ने मंजूर से हाथ मिलाया। दीपक मित्तल के हाथ न मिलाने को लेकर दावा किया जा रहा है कि भारत हर मौके पर पाकिस्तान को कड़ा संदेश भेजने में कोई कमी नहीं रखना चाहता है ।।इसके साथ ही पाकिस्तान को दुनिया भर में अलग-थलग करने के लिए कई कूटनीतिक दबाव बना रहा है ।जाधव  के खिलाफ नहीं मिल सके हैं  सबूत :: उन्होंने कहा कि 30 मार्च 2016 को भारत ने जाधव को काउंसलर सुविधा दिलाने का आग्रह पाकिस्तान से किया था ।लेकिन कोई जवाब नहीं मिला ,उसके बाद अलग-अलग तारीखों में 13 बार इस तरह का आग्रह भारत की तरफ से किया जा चुका है ।उन्होंने कहा कि 19 जून 2017 को भारत ने पाकिस्तान से जांच में सहयोग का आग्रह करते हुए कहा कि जाधव के किसी आतंकी गतिविधि में शामिल होने के संबंध में पाकिस्तान की तरफ से कोई भी सबूत उपलब्ध नहीं कराए गए हैं।।                                             (आप हमारा एंड्रॉयड एप्प कोबरा टेलीविजन गूगल प्ले स्टोर से डाउनलोड कर सकते हैं)

1,080 total views, 3 views today