Facebook से उठा यूजर्स का विश्वास, अकाउंट ना इस्तेमाल करने वाले एंड्रॉइड यूजर्स भी हो रहे ट्रैक

New Delhi (COBRA DESK)। सोशल नेटवर्किंग वेबसाइट Facebook के लिए वर्ष 2018 काफी मुश्किल भरा रहा। इसके पीछे कई बड़े कारण मौजूद हैं। लाखों यूजर्स का डाटा मिस्यूज होना हो या डाटा और फोटोज लीक होना फेसबुक के लिए आम बात रही है। 2018 के आखिरी में कंपनी ने यूजर्स के बीच अपना विश्वास खो दिया। 2019 में भी फिलहाल यही स्थिति बनी हुई है। इसी बीच एक और खबर आ रही है कि फेसबुक उन एंड्रॉयड यूजर्स को भी ट्रैक कर रही है जो अपने स्मार्टफोन पर फेसबुक ऐप को इस्तेमाल नहीं करते हैं। वहीं, इनमें वो यूजर्स भी शामिल हैं जिनका फेसबुक पर अकाउंट ही नहीं है।

नॉन-फेसबुक यूजर्स भी हो रहे हैं ट्रैक:

प्राइवेसी इंटरनेशनल ने एक रिसर्च में यह बताया है कि किस तह Facebook के साथ एंड्रॉइड डाटा शेयर करता है। इस रिसर्च में बताया गया है कि 61 फीसद ऐप्स Facebook को Facebook डेवलपमेंट किट के जरिए डाटा शेयर करता है। यह किट ऐप्स के अंदर ही एम्बेड होती है। आपको बता दें कि अगर किसी एंड्रॉइड या iOS यूजर ने Facebook पर अकाउंट नहीं भी बनाया है तो भी डाटा Facebook पर शेयर किया जा सकता है। उदाहरण के तौर पर: रिसर्चर्स ने उन एंड्रॉइड यूजर्स पर भी स्टडी की है जिनका Facebook पर अकाउंट नहीं है। लेकिन फिर उनका डाटा Facebook पर शेयर किया गया है क्योंकि उन्होंने Qibla Connect, Period Tracker Clue, Indeed और My Talking Tom जैसी ऐप्स डाउनलोड की थीं। वहीं, इसकी जानकारी Facebook को भी नहीं है।रिसर्च कंपनी Toluna द्वारा की गई रिसर्च में यह बताया गया है कि Facebook को दुनिया की सबसे कम विश्वसनीय कंपनी का खिताब मिला है। 1000 में 40 फीसद लोग Facebook पर विश्वास नहीं करता है। कम विश्वसनीय कंपनियों में ट्विटर और अमेजन दूसरे और तीसरे नंबर पर हैं। वहीं, Microsoft उन कंपनियों में से एक है जिनपर यूजर्स विश्वास करते हैं। क्योंकि केवल 2 फीसद ही लोग ऐसे हैं जिन्हें यहां निजी जानकारी शेयर करने से कोई परेशानी है। वहीं, केवल 4 फीसद लोग ही एप्पल के साथ अपना डाटा इस्तेमाल नहीं करते हैं।